एकादशी व्रत कथा

Ekadashi Vrata Katha In this unique blog, all kinds of information about Ekadashi dates, Ekadashi fasting, which Ekadashi is today, Stotra, in Hindi

2020/07/15

Saphala Ekadashi | आप जानते हैं सब व्रतों में एकादशी सर्वश्रेष्ठ क्यों है ?

  पं. शम्भू झा       2020/07/15


saphala ekadashi-

Saphala Ekadashi: ब्रह्मांड पुराणमें भगवान्‌ श्रीकृष्ण और महाराज युधिष्ठिर के संवाद में "सफला एकादशी"  का महात्म्य बताया गया है ! युधिष्ठिर महाराज ने पूछा, हे स्वामिन्‌ ! पौष महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी का नाम क्‍या है ?

 यह व्रत किस प्रकार करते हैं ? किस देवताकी पूजा करते है ? इस के बारें में आप विस्तार से कहिए ? '

भगवान्‌ श्रीकृष्ण ने कहा, ' राजेन्द्र ! बहुत बडे-बडे यज्ञ करने से जो आनंद प्राप्त होता है उससे अधिक आनंद इस व्रत पालन करने वाले से मुझे होता है ! यथाशक्ति विधिपूर्वक हर एक व्यक्ति को यह व्रत करना चाहिए ! और  भगवान्‌ नारायण की पूजा करें ! जिस तरह सर्पों में शेषनाग, पक्षियों में गरूड, देवताओं में श्रीविष्णु और मानवों मे ब्राह्मण श्रेष्ठ हैं, उसी प्रकार सब व्रतों में एकादशी तिथि श्रेष्ठ है !

हे राजन ! सफला एकादशी के दिन, नाममंत्र का उच्चारण करते हुए नारियल, सुपारी, आम, नींबू, अनार, आवला, लवंग, बेर आदि फलों को अर्पण करके श्रीहरि की पूजा करनी चाहिए! धूप-दीप से भगवान कीअर्चना करनी चाहिए! सफला एकादशी को विशेष करके दीपदान करने का भी विधान है!

रात को वैष्णवों के साथ भगवत्‌-कथा, कीर्तन करते हुए जागरण करे! हजारों वर्षों की तपस्या से भी इस रात्रि के जागरण के फल की तुलना नही की जा सकती! “हेनृपश्रेष्ठ! अब इस सफला एकादशी की शुभदायी कथा सुनो!

सफला एकादशी कथा

प्राचीन काल में चम्पावती नामक सुंदर नगरी महाराज माहिष्मता की राजधानी थी ! उन्हें पांच पुत्र थे! ज्येष्ठ पुत्र हमेशा पापकर्म करते हुए परस्त्री संग और वेश्यासक्त था | अपने पिता का धन पापकर्मों में नष्ट किया

वह दुराचारी ब्राह्मण, वैष्णव, देवताओं की निंदा करता था ! उसके इन पापकर्मों को देखकर राजा ने उसका नाम लुम्भक रखा ! कुछ दिनों पश्चात पिता और दूसरे भाईयों ने उसे राज्य से निकाल दिया !

लुभ्भक गहन वन में चला गया ! वन में रहते हुए लुम्भक यात्रियों को लूटने लगा ! एक दिन नगर में चोरी करने लुम्भक गया, तो सिपाहियों ने उसे पकड लिया ! अपने पिता का नाम कहने पर सिपाहियों ने उसे छोड दिया!

वह वापस वन में गया और मांस, फलहार पर जीवन-निर्वाह करने लगा !

वह दुष्ट प्राचीन बरगद पेड के नीचे विश्राम करता था ! वह पेड अत्यंत प्राचीन होते हुए उस वनमें उस वृक्ष को महान देवता माना जाता था । बहुत दिनों पश्चात संचित पुण्य प्रभाव से उसने एक दिन अनजाने एकादशी व्रत का पालन किया ! 

पौष महीने की कृष्ण पक्ष की दशमी को लुम्भक वृक्ष के फल खाकर और वस्त्रहीन रहने से रातभर ठंडी में सो नही सका ! लगभग वह बेहोश हो चुका था ! सफला एकादशी ( Saphala Ekadashi ) 
के दिन भी वह बेहोश ही रहा । दोपहर में उसे होश आया । उठकर अथक प्रयास से चलते हुए, भुख से व्याकुल वह गहन वन में गया।

जब फलों को साथ वह लौटा तब सूर्यास्त हो रहा था । इसलिए उस फलों को वृक्ष के मूल में रखा और प्रार्थना की, कि भगवान्‌ लक्ष्मीपति विष्णु इन फलों का स्वीकार करें । ऐसा कहकर लुम्भक उस रात भी नही सोया । इससे अनजाने में उसने व्रत पालन किया ।



इसे भी पढ़ें 


उस समय आकाशवाणी हुई, "हे राजकुमार ! सफला एकादशी  के फल के प्रसाद से तुम्हे राज्यऔर पुत्र प्राप्ति होगी ।" तब उसका मन परिवर्तन हुआ । उस समय से उसने अपनी बुद्धि भगवान् विष्णु के भजन में लगायी । उसके बाद वह अपने पिताश्री के पास लौट गया, 

पिताने उसे राज्य दिया, अनूरूप राजकन्या के साथ विवाह करके बहुत वर्षो तक उत्तम राज्य करता रहा । भगवान विष्णु के वरदान से उसे मनोज नामक पुत्र की प्राप्ति हुई । मनोज जब राज्य संभालने योग्य हुआ तब लुम्भक ने आसक्ति रहित होकर राज्य त्याग दिया और भगवान्‌ श्रीकृष्ण के शरणागत हो गया ।

इस प्रकार से सफला एकादशी के व्रत प्रभाव से इस जन्म में उसे सुख प्राप्त हुआ साथ ही मृत्यु पश्चात मोक्ष की भी प्राप्ति हुई। सफला एकादशी के पालन से तथा Saphala Ekadashi Vrat Katha सुनने मनुष्य को राजसूय यज्ञ की प्राप्ति होती है।
logoblog

Thanks for reading Saphala Ekadashi | आप जानते हैं सब व्रतों में एकादशी सर्वश्रेष्ठ क्यों है ?

Previous
« Prev Post

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें